इश्क मुहब्बत क्या है? मुझे नही मालूम!
बस तुम्हारी याद आती है.. सीधी सी बात है।
Share On Whatsapp




ऐ जिंदगी मैं रंग हूँ तेरे चेहरे का,
जितना तू खुश रहेंगी उतना ही मैं
निखरता जाऊँगा.
Share On Whatsapp




इस तरह भी मोहब्बत होती है क्या..
कोई तरसे किसी की याद में..और उसे खबर भी न हो..
Share On Whatsapp




एक ही समझने वाला था मुझे ,
अब वो भी समझदार हो गया
Share On Whatsapp




अहेमियत तो मे सबको देता हुं जो अच्छे होंगे वो साथ देगें और जो बूरे होंगे वो सबक..
Share On Whatsapp




तुझसे अच्छी तो मेरे गाँव की खटारा बस थी,
जिस पर लिखा था- "लो मैं फिर आ गई" !!
Share On Whatsapp




एक लड़की के सामने दूसरी लड़की की तारीफ़ करना,
पेट्रोल पम्प पर सिगरेट पीने जैसा है !!
Share On Whatsapp





Share On Whatsapp